होम

कोट्स New

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता

भाषा


लिखें

साइन इन

हिंदू या मुस्‍लिम

Submitted by: StoryMirror Feed



#others 46 10 1.18K


Comment

Kishwar Alam

Wah! ज़बरदस्त क़ब्र के मुर्दों से क्यों तुम जंग छेड़े बैठे हो मिट गई तारीख़ वो, उस बात को मत छेड़िए

1 month
1 month

Wah! ज़बरदस्त क़ब्र के मुर्दों से क्यों तुम जंग छेड़े बैठे हो मिट गई तारीख़ वो, उस बात को मत छेड़िए


अर्चित तरुण

बहुत ही अच्छा

3 months
3 months

बहुत ही अच्छा


Shahina Saba

Impressive 👏

3 months
3 months

Impressive 👏


Chetan Gondalia

Reply: जज़्बात छेड़ नहीं रहे, हम तो बस आक्रांताओं के भूत भागने की कोशिश में हैं, ज़ुल्म जो १४०० सालों से पनप रहे शांति के धर्माधिकारियों के ख़ैमों में , बाहर- इर्द-गिर्द भी ; बस जवाब ढूंढ रहे - पश्चिम हिमालय हिन्दुकुश क्यों हैं? ऋषि कश्यप का कश्मीर रणभूमि क्यों हैं? बहोत सारे मंदिर आज कब्र-खाना और पश्चिमी असतालय क्यों हैं? भारतवर्ष के टुकड़े या टुकड़ों की ख्वाहिशें आज क्यों हैं? आर्य-सनातनी कुलपुत्र अरब के मुश्रिक़ क्यों हैं? परम वंदनीय गौ उनकी थाली की सजावट क्यों हैं? हिन्द की आबो-हवा के बाशिंदे अरब-अस्तांचल भक्त क्यों हैं? सुगोत्र थे जो, आज लुटेरों के वंश की पहचान क्यों हैं? आगे और भी बहोत कारवां-ए-सवाल हैं ; फील-हाल आपके लिए जवाब क्यों खोजे कि - जज़्बात क्यों छेड़ते हो...??!!

3 months
3 months

Reply: जज़्बात छेड़ नहीं रहे, हम तो बस आक्रांताओं के भूत भागने की कोशिश में हैं, ज़ुल्म जो १४०० सालों से पनप रहे शांति के धर्माधिकारियों के ख़ैमों में , बाहर- इर्द-गिर्द भी ; बस जवाब ढूंढ रहे - पश्चिम हिमालय हिन्दुकुश क्यों हैं? ऋषि कश्यप का कश्मीर रणभूमि क्यों हैं? बहोत सारे मंदिर आज कब्र-खाना और पश्चिमी असतालय क्यों हैं? भारतवर्ष के टुकड़े या टुकड़ों की ख्वाहिशें आज क्यों हैं? आर्य-सनातनी कुलपुत्र अरब के मुश्रिक़ क्यों हैं? परम वंदनीय गौ उनकी थाली की सजावट क्यों हैं? हिन्द की आबो-हवा के बाशिंदे अरब-अस्तांचल भक्त क्यों हैं? सुगोत्र थे जो, आज लुटेरों के वंश की पहचान क्यों हैं? आगे और भी बहोत कारवां-ए-सवाल हैं ; फील-हाल आपके लिए जवाब क्यों खोजे कि - जज़्बात क्यों छेड़ते हो...??!!


Yashika Tripathi

This is so influential. The voice of the narrator and the words of the poem are in absolute sync with each other

4 months
4 months

This is so influential. The voice of the narrator and the words of the poem are in absolute sync with each other


Nandani Mehta

Woah❤️ Who is the narrator?

4 months
4 months

Woah❤️ Who is the narrator?


Heena Joshi

very impressive voice. Would like to know who is the narrator.

5 months
5 months

very impressive voice. Would like to know who is the narrator.


Amogsiddh Chendake

व्वाह!👌👌👌

5 months
5 months

व्वाह!👌👌👌


Pratishtha Gupta

Very good voice

6 months
6 months

Very good voice


Aarti Ayachit

बहुत बढ़िया प्रस्तुति

6 months
6 months

बहुत बढ़िया प्रस्तुति



You may like to listen